• Home   /  
  • Archive by category "1"

Essay On Mera Bharat Mahan

मेरा भारत महान

हमारा प्यारा देश भारत अत्यंत प्राचीन संस्कृति वाला महान एंव सुंदर देश है। यह ऐसा पावन एंव गौरमय देश है जहां देवता भी जन्म लेने को लालायित रहते हैं। हम अपने इस देश को स्वर्ग से भी बढक़र मानते हैं। इस देश की प्रशंसा कविवर प्रसाद ने इन शब्दों में की है-

‘’अरुण यह मधमय देश हमारा

जहां पहुंच अनजान शिक्षित को मिला एक सहारा।’

भारत देश संसार का शिरोमणि है जिसका इतिहास गौरवपूर्ण है। प्राकृतिक दृष्टि से सबसे अनूठा है। प्रकृति ने उसे अपने हाथों से संवारा है। छ: ऋतुंए बारी-बारी में आकर इसका श्रंगार करती हैं। तीन ओर समुद्र और हिमालय इसके मुकुट की भांति सुशोभित हैं। नदियां इसके प्रेम प्रवाह की भाङ्क्षति निरंतर बहकर इसे सिंचित करती हैं। इन्हें विशेषताओं के कारण जर्मन के विद्वान मैक्समूलर ने कहा है-

यदि हम ऐसे देश की खोज करने के लिए संपूर्ण विश्व की खोज करें जिसे प्रकृति ने सर्वसंपन्न तथा सुंदर बनाया है, तो मैं भारत की ओर संकेत करूंगा।

मेरा देश भारत संस्कृति की क्रीड़ाभूमि है। इसी देश से ज्ञान की रश्मियां पूरे विश्व में फैली थी। यही वह देश है जिसने वेद, पुराण, उपनिष्ज्ञद और गीता का ज्ञान संसार को दिया। ज्ञान के कारण ही भारत को जगदगुरु कहा जाता है।

हमारा देश भारत भौगोलिक विभिन्नताओं वाला देश है। यहां एक ओर हरियाली है तो दूसरी तरफ जंगल, एक ओर हिमखंडित पर्वत शिखर हैं तो दूसरी ओर तपते मरुस्थल। इसी देश में प्राकृतिक बनावट, जलवायु, खान-पान, वेशभूषा तथा संस्कृति की दृष्टि से इतनी विभिन्नताएं हैं। हमारा प्यारा देाश् भारत अनेकता में एकता का अपूर्व उदाहरण है। इसी देश में मंदिर और मस्जिद, गुरुद्वारे और गिरजाघरों के दर्शन होते हैं। अनेक भाषाएं ओर अनेक धर्म इसी धरती पर फल-फूल रहे हैं। सभी संस्कृतियों को फलने फूलने का अवसर दिया जाता है।

भारत एक धर्म-निरपेक्ष राज्य है अर्थात यहां की सरकार जनता के धार्मिक मामालों में कोई दखल नहीं देती। यहां हिंदु-सिख, ईसाई और इस्लाम धर्म मानने वाले लोग रहते हैं। उन्हें अपनी उपासना पद्धति तथा सामाजिक व्यवस्था का अनुसरण करने की पूर्ण स्वतंत्रता है। भारत भूमि ने ही संसार को विश्व बंधुत्व तथा पंचशील का सिद्धांत दिया गया सत्य, अहिंसा, त्याग, दया आदि मानवीय मूल्यों की प्रेरणा दी।

प्राकृतिक दृष्टि से यह देश सर्वाधिक सुंदर देश है, तो कभी धन-वैभव की दृष्टि से सोने की चिडिय़ा भी कहा जाता है। इसकी विपुल धन संपदा के कारण ही अनेक आक्रमणकारियों ने बार-बार लूटा तथा इसकी संस्कृतियों को नष्ट करने का प्रयास किया। परंतु इसकी संस्कृति नष्ट न हो पाई और अभी तक जीवित है जबकि संसार की अन्य प्राचीन संस्कृतियों का नामो-निशान तक नहीं है।

हमारा देश अनेक महापुरुषों की भूमि है। इसी धरापर गौतम, महावीर, विवेकानंद जैसे महापुरुष हुए, इसी धरा पर महात्मा गांधी,जैसे पुरुष का आगमन हुआ। इसी भूमि पर तुलसी, कबीर, कालिदास, रवींद्रनाथ टैगोर सरीखे कवियों, पे्रमचंद सरीखे कहानीकार हुए। इसी भूमि पर महान रामानुजम, आर्यभट्ट जेसे गणितज्ञ एंव वैज्ञानिक अवतीर्ण हुए।

सभी देशवासी भारत देश को उन्नति के शिखर पर पहुंचाने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर कार्य कर रहे हैं। हमारा देश वर्तमान में अनेक समस्याओं से जूझ रहा है और अभी विकासशील देशों की श्रेणी में है। लेकिन वह समय दूर नहीं है जब हमारा भारत देश विज्ञान, तकनीक, औद्योगिक, आर्थिक और सामाजिक दृष्टि से विश्व का सिरमौर बनेगा। प्रत्येक भारतवासी का कर्तव्य है-

‘जिंए तो सदा इसी के लिए

कहीं अभिमान रहे यह हर्ष

निछावर कर दें हम सर्वस्व

हमारा प्यारा भारत वर्ष।’

June 13, 2017evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), Languages4 CommentsHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

Mera Desh Mahan Essay in Hindi : Mera Bharat par Nibandh

मेरा भारत एक विशाल देश है एक समय था जब इसे सोने की चिड़िया कहा जाता था। वह अति प्राचीन देश है इसे हिंदुस्तान , सिंधु देश के नाम से भी जाना जाता है। इसके एक तरफ विश्व का सबसे ऊंचा पर्वत हिमालया है इसके परे तिब्बत तथा चीन वसा है। शेष तीनों दिशाओं में सागर से घिरा हुआ है। पूर्व में बंगलादेश है और बर्मा देश हैं पशिचम में पाकिस्तान , ईरान और अफगानिस्तान जैसे देश हैं। भारत भूमि में अनेक नदियां , मैदान और मारूस्थल हैं जैसे भारत में गंगा ,यमुना , सतलुज और भी बहुत सारी नदियां बहती हैं। गंगा नदी को तो पवित्र नदी होने के कारण इसे देव नदी के नाम से भी जाना जाता है संसार का ऐसा कोई मौसम नहीं होगा जो यहां देखने को ना मिलता हो। यहां जून महीने में भीषण गर्मी पड़ती है तो जनवरी महीने में कड़ाके की ठंड भी पड़ती है। भारत के चिरापुंजी में सबसे अधिक वारिश देखने को मिलती है वहीँ राजस्थान में बहुत काम बारिश होती है यहां सालभर हर प्रकार का मौसम आता है जो सबका मन मोह लेता है।

मेरे भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है और राष्ट्रीय पक्षी बाघ है और राष्ट्रीय भाषा हिंदी है जन गण मन राष्ट्रीय गाण और वन्दे मातरम राष्ट्रीय गीत के रूप में गाया जाता है।

मेरा भारत खेती प्रधान देश है यहां पर मक्का , ज्वार , गेंहू , बाजरा और गन्ना जैसी फसलें उगाई जाती हैं। यहां बहुत सारे ऋषि , मुनियों , गुरुओं , तपस्वी और बलिदानी महापुरषों ने जन्म लिया और उनके द्वारा दिए गए सत्य , प्रेम , त्याग और मानवता के संदेशों द्वारा पूरे विश्व ने प्रेरणा ली है। यहां की औरतें वीरता और साहस की पुतलियां हैं कई महान वीरंगना जैसे झांसी की रानी , लक्ष्मीबाई , दुर्गावती आदि नारियों ने भारत में ही जन्म लिया और इंडिया गेट पर लिखे हजारों नाम उनकी देशभक्ति की गाथा गा रहे हैं।

भारत एक विशाल देश है और जनसंख्या के लिहाज से यह चीन के बाद दूसरे स्थान पर आता है। यहां पर अनेक धर्मों के लोग जैसे हिन्दू ,सिख , मुसलमान ,ईसाई के लोग प्रेम से रहते हैं जिस कारण भारत में अनेक प्रकार के त्यौहार भी मनाये जाते हैं जैसे दिवाली , लोहड़ी , ईद , क्रिसमिस जैसे बहुत सारे त्यौहार मनाये जाते हैं यहां बहुत सारी भाषाएं भी बोली जाती हैं जैसे हिंदी , पंजाबी , संस्कृत , बंगाली , गुजराती , उर्दू , तमिल और तेलगु और भी बहुत सारी भाषाएं हैं। यहां की सभ्यता और संस्कृति पूरे विश्व में प्रसिद्ध है जिसके लिए हर वर्ष लाखों विदेशी पर्यटक यहां घूमने आते हैं भारत की राजधानी दिल्ली और यहां 28 राज्य हैं या प्रदेश हैं। यहां पर अनेक तीर्थस्थल हैं जो भारत की सुन्दरता को बढ़ाते हैं। विश्व के सात अजूबों में शामिल ताजमहल भारत में ही स्थित है। इन्ही कारनों को होते हुए मेरा भारत महान है और मुझे अपने भारत देश पर बहुत गर्व है।

***********************************************

Essay on Mera Bharat Mahan Essay in Hindi 300 words

हमारा देश सचमुच ही बड़ा महान देश है। मेरे देश की सभ्यता बहुत पुरानी है संसार की सबसे पुरानी पुस्तक वेद की रचना भी इसी देश में हुई है। भारत एक अधिक जनसंख्या वाला देश है प्रकृतिक रूप से यह सभी दिशाओं से भी सुरक्षित है। इसके इलावा संसारभर में अपनी महान संस्कृति और परंपराओं के लिए प्रसिद्ध देश है। भारत में हिमालय पर्वत है जो संसारभर के प्रसिद्ध उंचे पर्वतों में आता है ये तीन तरफ से महासागरों से घिरा हुआ है महासागर , बंगाल की खाड़ी और पश्चिम दिशा में अरेबिक सागर।

भारत की धरती पर ही विवेकानंद जैसे महान पुरुषों ने जन्म लिया जिन्होंने भारत की संस्कृति व सभ्यता का परिचय दिया। इसके इलावा भगत सिंह , जवाहरलाल नेहरु , लक्ष्मीबाई और पृथ्वी राज चौहान जैसी महान विभूतियों ने जन्म लिया।

भारत में हिन्दू , सिख , ईसाई और मुस्लिम आदि जैसे धर्मों के लोग तथा अनेक जातियों के लोग प्रेम से रहते हैं और यहां दिवाली , होली , क्रिसमस , ईद जैसे त्योहार मनाये जाते हैं जिन्हें सभी धर्मों के लोग एक साथ मिलकर मनाते हैं जिन से हमें अनेकता में एकता का संदेश मिलता है।

भारत एक लोकतांत्रिक देश है जिस कारण यहां रहने वाले लोगों को स्वतंत्रता हासिल है , जहाँ का बंदे मातरम राष्ट्रीय गीत है और जन गण मन राष्ट्रगान के रूप में गाया जाता है। भगत सिंह , उधम सिंह जैसे क्रांतिकारियों ने देश को 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता दिलाई तथा 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ जिसे हर वर्ष 26 जनवरी को राष्ट्रिय पर्व के रूप में मनाया जाता है।

आज हमारा देश हर प्रकार से आजाद है इसीलिए हम सबको मिलजुल रहना चाहिए यदि हम इसी तरह मिलजुल कर रहेंगे तभी हमारा भारत महान कहलायेगा और जो रोजाना बॉर्डर पर देश के सेनिक बाहरी खतरों से हमारी रक्षा करते हैं हमें उन पर गर्व होना चाहिए उनके कारण ही हम रात को चैन की नींद सो पाते हैं मुझे विश्वास है के हमारा भारत प्रतिदिन उन्नति करेगा और हर प्रकार से ख़ुशहाल रहेगा।

(Visited 8,994 times, 19 visits today)

Filed Under: Hindi EssayTagged With: Hindustan, India Essay in Hindi

One thought on “Essay On Mera Bharat Mahan

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *